कंप्यूटर क्या है? बेसिक जानकारी What Is Computer?

0
126
what is computer

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है जो डाटा को प्रोसेस करके केलकुलेटर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है कंप्यूटर का इस्तेमाल हर कोई करता है और कंप्यूटर से हर काम पर perfect  तरीके से होता है इसीलिए लोग इसका इस्तेमाल करना पसंद करते हैं बढ़ती टेक्नोलॉजी में कंप्यूटर का काफी महत्वपूर्ण हो चुका है कंप्यूटर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है यह बात सभी को पता होगी लेकिन कंप्यूटर की कुछ बेसिक जानकारी हम इस आर्टिकल के माध्यम आज हम आप तक शेयर करने वाले हैं तो इस आर्टिकल को शुरू से अंत तक पूरा पढ़िए हालांकि कई लोगों को इसके बारे में जानकारी पता होगी  लेकिन यह आर्टिकल उन लोगों के लिए है जिन्हें कंप्यूटर की बेसिक जानकारी के बारे में पता नहीं है |

Read More:- Computer Format Kaise Kare – पूरी जानकारी

कंप्यूटर क्या है? ( computer  kiya  hai )

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक यंत्र हैं जो system  के अनुसार अपना कार्य संपादित करता हैं यह एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिसे कई वर्षों पहले एक दार्शनिक, आविष्कारक और यांत्रिक इंजीनियर Charles Babbage द्वारा बनाया गया था। Charles Babbage को कंप्यूटर का जनक कहा जाता हैं

कंप्यूटर शब्द लैटिन शब्द computers से लिया गया है इसका अर्थ कैलकुलेशन या गणना करना होता है कंप्यूटर बेहतरीन कैलकुलेशन करने तथा परफेक्ट प्रोसेसिंग डाटा संग्रहण करने वाला यंत्र माना जाता है आजकल 90% काम में कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है

कंप्यूटर मुख्य तौर पर तीन काम करता है जिस पर कंप्यूटर के सारे काम आधारित होते हैं पहला कार्य दिए गए डेटा को accept  करता है जिसे हम इनपुट कहते हैं दूसरा काम उस डाटा को प्रोसेसिंग करता है और आखरी काम प्रोसेसिंग डाटा को दिखाता है जिसे आउटपुट कहा जाता है इस दोनों काम पर ही कंप्यूटर का पूरा सिस्टम नियंत्रित रहता है |

Input Data → Processing → Output Data

मॉडर्न कंप्यूटर का जनक Charles Babbage को कहा जाता है क्योंकि इन्होंने ही सबसे पहले मैकेनिकल कंप्यूटर को डिजाइन किया था और उसका आविष्कार किया था जिसे एनालिटिकल इंजन के नाम से भी जाना जाता है इस कंप्यूटर को punch  कार्ड की सहायता से ओपन किया गया था |

कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है?

C – Common

O – Operated

M – Machine

P – Particular

U – Used for 

T – Technical 

E – Educational

R – Research

कंप्यूटर के part 

कंप्यूटर की मुख्य तो चार part होते हैं

1. Monitor  

कंप्यूटर की स्क्रीन मतलब मॉनिटर को आउटपुट डिवाइस कहा जाता है यह कंप्यूटर द्वारा प्रोसेसिंग किए गए डाटा को दिखाता है कंप्यूटर का मुख्य काम सीपीयू करता है लेकिन सीपीयू द्वारा किया गया काम मॉनिटर द्वारा डिस्प्ले में दिखाया जाता है यह दिखने में एक टेलीविजन की तरह होता है मॉनिटर सीपीयू से कनेक्ट होता है और सीपीयू द्वारा आई प्रतिक्रियाओं को एक डिस्प्ले के तौर पर दिखाता है

2. Keyboard 

कीबोर्ड को इनपुट डिवाइस कहा जाता है इसकी सहायता से कोई भी जानकारी कंप्यूटर में इनपुट की जाती है उसके बाद कंप्यूटर उस जानकारी को प्रोसेसिंग करता है और प्रोसेस में जानकारी monitor के  जरिए डिस्प्ले की जाती है कीबोर्ड के अलग-अलग पार्ट होते हैं कीबोर्ड पर 26 key  जिस पर अल्फाबेट लिखे होते हैं उसके अलावा कुछ कंट्रोल key  कीबोर्ड पर भी होती है तथा साइड में न्यूमेरिकल key  कीबोर्ड पर होती है जिसकी सहायता से नंबर इनपुट किए जा सकते हैं keyboard  के सबसे ऊपरी भाग में 12 फंक्शन key  दी गई होती है जो इस स्पेशल कार्य को संपन्न करती है

1. Function Keys

2. Typing Keys

3. Control Keys

4. Navigation Keys

5. Indicator Lights

6. Numeric Keyboard

3. Mouse 

यह दिखने में चूहे के समान नजर आता है इसलिए इसका नाम माउस रखा गया है यह कंप्यूटर में इनपुट डिवाइस keyboard  की सहायता करता है तथा मॉनिटर में डिस्प्ले करवाए गए डेटा को सेलेक्ट करने तथा ओपन करने में काम आता है| इस पर 2 control  key व एक स्क्रोल डाउन रोल लगा होता है

4. CPU 

सीपीयू का पूरा नाम सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट है यह कंप्यूटर का मुख्य भाग होता है इसे कंप्यूटर का मस्तिष्क भी कहते हैं क्योंकि कंप्यूटर द्वारा सभी काम CPU  द्वारा ही संपन्न होते हैं|

सीपीयू हर काम को प्रोसेस करके प्रोसेसिंग डाटा मॉनिटर के जरिए show करवाता है सीपीयू कंप्यूटर के मदरबोर्ड में लगा होता है वहीं से इनपुट आए हुए डाटा को प्रोसेस करके आउटपुट मिलता है |

कंप्यूटर हार्डवेयर क्या है?

कंप्यूटर की भौतिक भागों को कंप्यूटर हार्डवेयर कहा जाता है यह भौतिक भाग इलेक्ट्रॉनिक ,मैग्नेट ,मैग्निकल, ऑप्टिकल कुछ भी हो सकते हैं ऐसी भाग जो कंप्यूटर की संरचना बनाने के लिए उपयोग किए जाते हैं कंप्यूटर हार्डवेयर कहलाते हैं कंप्यूटर हार्डवेयर में माइक्रो प्रोसेसर, इंटीग्रेटेड सर्किट, हार्ड डिस्क, कलर मॉनिटर, कीबोर्ड आदि डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है|

इन सभी डिवाइसों के इस्तेमाल करने से कंप्यूटर कि सरचना बनती है हार्डवेयर उस डिवाइस को कहा जाता है जिसे हम देख सकते है या छू सकते हैं जैसे कीबोर्ड ,माउस, डिस्पले,  सीपीयू इत्यादि इन सभी डिवाइसों को हम अपनी आंखों से देख सकते हैं |

यह सभी डिवाइस हार्डवेयर कहलाते हैं और इन सभी डिवाइसों की सहायता से ही कंप्यूटर कि सरचना बनती है कंप्यूटर की संरचना में हार्डवेयर का होना बहुत जरूरी है और इन्हीं हार्डवेयर की सहायता से कोई भी व्यक्ति कंप्यूटर में इनपुट डाल सकता है और आउटपुट को प्राप्त कर सकता है |

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर क्या होता है?

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का मतलब कंप्यूटर के अंदर लगे डिवाइस जो कंप्यूटर में इनपुट डालने तथा आउटपुट दिखाने में मदद करते हैं और सीपीयू में लगे सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में डाले गए इनपुट को प्रोसेसिंग करने में मदद करते हैं ऐसे सॉफ्टवेयर जिन्हें हम साधारण तो नहीं देख पाते हैं और यह भाग कंप्यूटर के सभी कार्य करने में मदद करते हैं उन्हें कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कहते हैं

इसके अलावा भी कंप्यूटर के कई और भी पार्ट होते हैं जो कंप्यूटर में काफी महत्वपूर्ण हिस्सेदारी निभाते हैं आपने रैम व रोम के बारे में सुना होगा RAM  व Rom  कंप्यूटर के महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर माने जाते हैं |

RAM क्या होती है?

RAM का पूरा नाम रेंडम एक्सेस मेमोरी है यह किसी भी कंप्यूटर डिवाइस के लिए सबसे महत्वपूर्ण और जरूरी हिस्सा माना जाता है क्योंकि कंप्यूटर डिवाइस का पूरा डाटा रैम मैं ही स्टोर रहता है RAM में डाटा तब तक रहता है जब तक आपका कंप्यूटर ऑन रहता है जैसे ही आप कंप्यूटर बंद कर देते हैं तो रैम का डाटा सब खत्म हो जाता है|

ROM क्या होती है?

ROM भी प्रेम की तरह एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है ROM  कंप्यूटर सिस्टम का प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस कहलाता है यह एक गिफ्ट के आकार का होता है जो कंप्यूटर के मदरबोर्ड में लगा होता है इसमें डाटा लाइफ टाइम तक रहता है जब तक आप उस डाटा को डिलीट नहीं करते थे जैसे ही आप अपना कंप्यूटर बंद करते हैं तो और रैम का सारा डाटा रोम में चला जाता है |

कंप्यूटर का इतिहास 

कंप्यूटर आज से कई सालों पहले बना है और शुरुआत में जो कंप्यूटर बना था और आज के कंप्यूटर में काफी ज्यादा विभिनता है कंप्यूटर का डेवलपमेंट जब से शुरू हुआ है तब से कंप्यूटर में जो कमजोरियां थी उसी दूर करते-करते आज का मॉडर्न कंप्यूटर बनकर तैयार हुआ है आज का कंप्यूटर का मुकाबला अगर पुराने वाले कंप्यूटर से किया जाए तो इन दोनों में रात दिन का फर्क देखने को मिलेगा जनरेशन के हिसाब से कंप्यूटर की भी अलग-अलग जनरेशन को अलग-अलग भागों में बांटा गया है|

कंप्यूटर की पहली जनरेशन साल 1940 1956 तक चली थी इस जनरेशन का नाम वेक्यूम ट्यूब रखा गया इस जनरेशन में मैग्नेटिक ध्रुव को मेमोरी के लिए इस्तेमाल किया जाता था इस कंप्यूटर की साइज काफी बड़ी थी जिसे एक ही स्थान से दूसरे स्थान ले जाना काफी मुश्किल हुआ करता था. इस जनरेशन में आए कंप्यूटर की कमियों को देखते हुए इसे मॉडिफाइड किया गया और उसके बाद कंप्यूटर की दूसरी जनरेशन आई|

– कंप्यूटर की दूसरी जनरेशन साल 1956 से 1963 तक चली कंप्यूटर की इस पीढ़ी में वैक्यूम ट्यूब से काफी ज्यादा बदलाव कर के एक नए कंप्यूटर को लांच किया था यह कंप्यूटर आकार में काफी छोटा था और फास्ट स्पीड के साथ भी काम करता था इस जनरेशन को कंप्यूटर को चलाने के लिए काफी ज्यादा ताकत लगानी पड़ती की इस कमी को देखते हुए कंप्यूटर में काफी बदलाव किए गए |

कंप्यूटर की तीसरी जनरेशन  – 1964-1971 जिसे “Integrated Circuits” के नाम से जाना जाता था कंप्यूटर की जनरेशन में कंप्यूटर की प्रोसेसिंग क्षमता काफी हद तक बढ़ाई गई इसके साथ ही इसके अंदर मदर बोर्ड में कई ऐसी सेमीकंडक्टर जिसका इस्तेमाल किया गया जिससे कंप्यूटर चलाने में आसानी हो सके|

कंप्यूटर की चौथी जनरेशन साल 1971-1985 जिसे “Microprocessors” के नाम से जाना गया कंप्यूटर की जनरेशन कंप्यूटर के इतिहास की काफी महत्वपूर्ण जंक्शन रही इस जनरेशन में इंटीग्रेटेड सर्किट को एक ही सिलीकान चिप में इनेबल किया गया ऐसा करने से कंप्यूटर को और अधिक छोटा करने तथा उसकी आकृति को कम करने में काफी आसानी हुई कंप्यूटर की जनरेशन में कंप्यूटर की गणना करने की क्षमता को और अधिक बढ़ाया गया और बड़ी आसानी से बड़ी-बड़ी कैलकुलेशन करने में इस जनरेशन का कंप्यूटर सक्सेसफुल हो गया

कंप्यूटर की पांचवीं जनरेशन 1985-present  जिसे Artificial Intelligence नाम दिया गया कंप्यूटर की पांचवी जनरेसन जो आज तक भी मौजूद है इस जनरेशन में नई टेक्नोलॉजी का दबदबा बना और एक मॉडर्न तरीके से कंप्यूटर की आकृति तथा फुल टेक्नोलॉजी के साथ कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर अपडेट किए गए इस जनरेशन में कंप्यूटर को कई एडवांस तकनीकी दी गई जिससे हर समस्या का समाधान आज के कंप्यूटर से किया जाना संभव हो सका |

फाइनल वर्ड

तो दोस्तों आज आप इस पोस्ट की माध्यम से जाना की कंप्यूटर क्या है, कंप्यूटर का इतिहास क्या है, साथ ही कंप्यूटर से जुड़े हर वो चीजे जो आपको जरूरत थी |

तो दोस्तों अगर आपको इस पोस्ट को लेकर कोई मन में सवाल है तो आप हमसे बेझिझक होकर पूछ सकते है, और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर से जरूर शेयर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here